पेट में गैस ज्यादा बनती है तो इन आयुवेदिक चूर्ण से करें मिनटों में इलाज

AyurvedicHindi

पेट में गैस ज्यादा बनती है तो इन आयुवेदिक चूर्ण से करें मिनटों में इलाज

  • April 30, 2024

  • 147 Views

पेट हमारे शरीर में बहुत ही नाजुक हिस्सा माना जाता है, इसलिए कुछ भी खाने से पहले कई दफा सोचना जरूर चाहिए की हम जो खा रहें है उसका हमारे शरीर पर कोई बुरा प्रभाव तो नहीं पड़ेगा, वही पेट में किसी भी तरह की समस्या अगर उत्पन्न हो जाए तो कैसे हम इसको ठीक कर सकते है वो भी आयुर्वेदिक दवाइयों की मदद से तो आप भी अगर पेट में गैस या कब्ज की समस्या से परेशान रहते है तो इसके लिए आप आर्टिकल के साथ अंत तक बने रहें ;

 

पेट में एसिडिटी की समस्या क्या है ? 

  • जब हमारे द्वारा लगातार कुछ न कुछ अनहैल्दी खाया जाता है तो हमारे पेट में कब्ज या गैस की समस्या बन जाती है जिसके कारण हम काफी परेशान होते है। 
  • पेट में गैस की परेशानी होने पर काफी ज्यादा पेट दर्द, सीने में जलन, खट्टी डकार, सिर में दर्द जैसी परेशानी होने लगती है। 
  • वहीं कई बार इसके कारण आपको दूसरों के सामने शर्मिंदा भी होना पड़ सकता है। इसलिए ऐसी स्थिति से बचाव के लिए आप कुछ आयुर्वेदिक चूर्ण अपने साथ रख सकते है। 

पेट में एसिडिटी की समस्या से बचाव के लिए आप बेस्ट आयुर्वेदिक डॉक्टर से भी जानकारी ले सकते है।

 

गैस या एसिडिटी की समस्या को ठीक करने की बेहतरीन आयुर्वेदिक दवा !

अगर आप भी पेट में बन रहें गैस की समस्या से परेशान रहते है तो इसके लिए आप निम्न आयुवेदिक दवाइयों को ध्यान में रखें ;

  • जिनमे से पहला है पुदीने की पत्तियों का चूर्ण, वही इस चूर्ण का सेवन करने से आप पेट में बन रहें गैस की समस्या से निजात पा सकते है। इस चूर्ण को बनाने की बात करें तो इसमें आप कुछ पुदीने की पत्तियों को सूखा ले और उन्हें पीस कर काले नमक के साथ लें, जिससे आपकी एसिडिटी की समस्या दूर हो जाएगी। 
  • अगर आपके पेट में काफी ज्यादा गैस बनती है, तो इस स्थिति में आप अजवाइन का चूर्ण बना सकते है। खासतौर पर इस चूर्ण को आप कहीं बाहर जा रहे है, तो ऐसी स्थिति में अपने साथ जरूर रखें। इसके लिए अजवाइन को हल्का सा भुन लें। अब इसमें थोड़ा सा काला नमक मिक्स करके इसे पीस लें। अब जब भी गैस की परेशानी महसूस हो तो इस चूर्ण का सेवन करें।
  • हींग और जीरे से बना चूर्ण भी आपके लिए काफी फायदेमंद माना जाता है, वही इस चूर्ण को बनाने की बात करें तो इसमें आप 2 चम्मच जीरा ले और इसे भून ले और इसमें  काला नमक जरूर डाले और फिर इसमें थोड़े से हींग को जरूर मिक्स करें। इतना करने के बाद आप इन को कूट ले और जब भी आपको एसिडिटी की समस्या मेहसूस हो तो इस चूर्ण को गरम पानी के साथ जरूर लें। 
  • अश्वगंधा या जिसे असगंध भी कहा जाता है। वही इसका चूर्ण भी पेट में गैस बनने की समस्या से राहत दिलवाने का रामबाण इलाज है। अश्वगंधा चूर्ण गैस बनने के साथ ही साथ सीने में जलन, गैस, अपच इत्यादि को भी दूर करता है। इसके लिए आप गर्म पानी के साथ इसका सेवन कर सकते है।

आप आयुर्वेदिक उपायों को बेस्ट आयुर्वेदिक क्लिनिक में जाकर भी डॉक्टरों की मदद से जान सकते है।

 

बेस्ट आयुर्वेदिक क्लिनिक !

अगर आप एसिडिटी या पेट में बन रहें गैस की समस्या से काफी परेशान रहते है, तो इसके लिए आप संजीवनी आयुर्वेदशाला क्लिनिक का भी चयन कर सकते है। 

 

निष्कर्ष :

उपरोक्त उपायों को अपनाने के बाद अगर आपके पेट में बन रहें गैस की समस्या न ठीक हो तो इसके लिए आप डॉक्टर के संपर्क में जरूर से आए क्युकी पेट अगर सही रहेगा तो व्यक्ति का संपूर्ण शरीर अपने आप ठीक रहेगा।

AyurvedicHindi

आयुर्वेद की मदद से खुजली की समस्या से कैसे करें खुद का बचाव ?

  • April 26, 2024

  • 133 Views

खुजली की समस्या जोकि कई बार हमे लोगों के सामने शर्मिंदा कर देता है, पर खुजली जैसी समस्या से आयुर्वेद कैसे हमें बाहर निकालेगा ये काफी चर्चा का विषय है, तो अगर आप भी खुजली जैसी समस्या का सामना कर रहें है तो इससे बचाव के लिए आपको आर्टिकल के साथ अंत तक बने रहना है ;

आयुर्वेद में खुजली की समस्या क्या है ?

  • ज्यादातर छोटी-मोटी त्वचा की समस्याएं, जैसे फफोले, स्किन इर्रिटेशन और सूजन, बाहरी कारणों की वजह से हो सकती है। वहीं, आयुर्वेद के अनुसार क्रोनिक स्किन कंडीशन जैसे कि सोरायसिस, एक्जिमा, पुरानी पित्ती, या मुहांसे की वजह आंतरिक कारण होते है। आयुर्वेद की माने तो रक्त, फेफड़े और यकृत में असंतुलन से उत्पन्न विषाक्त पदार्थ स्किन डिजीज का कारण बनते है।
  • वहीं आयुर्वेद की मानें तो इसमें त्वचा की समस्याओं को जन्म देने वाले विषाक्त पदार्थ अतिरिक्त रक्त धातु से उत्पन्न होते है। 
  • इसके अलावा जब हम गर्म खाद्य पदार्थों, शराब, ज्यादा धूप के संपर्क में रहते है या तेज नकारात्मक भावनाओं का अनुभव करते है, तो स्किन डिजीज की संभावना बढ़ जाती है। 

अगर आप भी इसी तरह की खुजली की समस्या का सामना कर रहें है, तो इससे बचाव के लिए आपको बेस्ट आयुर्वेदिक डॉक्टर का चयन करना चाहिए।

खुजली के क्या कारण हो सकते है ?

  • कई बार खुजली के कारणों का पता लगाना मुश्किल हो जाता है, लेकिन ये समस्या कुछ लोगों में फ़ूड एलर्जी के कारण देखी जाती है। 
  • दवाओं से एलर्जिक रिएक्शन भी कुछ लोगों में देखा गया है। 
  • स्किन डिसऑर्डर जैसे, एक्जिमा, सोरायसिस और ड्राई स्किन के कारण। 
  • कॉस्मेटिक और मेकअप प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करने से भी ये समस्या निकल कर सामने आती है। 
  • लीवर, किडनी या थायरॉयड रोग भी इसके कारणों में शामिल है। 
  • ऐसे रोग जो तंत्रिका तंत्र को प्रभावित कर सकते है, जैसे कि डायबिटीज और दाद की समस्या के कारण।

कौन-सी आयुर्वेदिक थेरेपी खुजली की समस्या में है कारगर ?

  • वमन, जोकि आयुर्वेद का बहुत ही बेहतरीन इलाज है, इसमें आपके अंदर मौजूद विषाक्त प्रदार्थ को उलटी के माध्यम से बाहर निकाला जाता है, और साथ ही ये आपके स्किन में खुजली की समस्या का भी समाधान करते है।  
  • यदि आप शरीर में तेज खुजली, या लाल चक्कते पड़ने की समस्या से परेशान है, तो इससे निजात पाने के लिए आप विरेचन क्रिया का चयन कर सकते है। 
  • आंवला, तेल, जौ, वचा आदि से तैयार किए गए आयुर्वेदिक लेप का अगर आप इस्तेमाल करते है, तो आप बड़ी से बड़ी खुजली की समस्या से निजात पा सकते है। वहीं अगर आप चाहें तो इस लेप को बेस्ट आयुर्वेदिक क्लिनिक में जाकर भी लगवा सकते है।
  • उद्वर्थन, भी बेहतरीन खुजली की समस्या से निजात दिलवाने की आयुर्वेदिक दवा है।

खुजली के इलाज में कौन-सी दवाइयां है कारगर ?

  • गंधक रसायन, शरीर में मौजूद दाद, खुजली के लिए बेहतरीन आयुर्वेदिक दवा है। वहीं इस दवाई की बात करें तो ये गुड़, पिप्पली, अदरक, दालचीनी की पत्तियां और छाल, काली मिर्च, शहद आदि जड़ी-बूटियों को मिलाकर तैयार की जाती है।
  • आरोग्यवर्धिनी वटी, दवा न केवल बिमारियों को ठीक करती है, बल्कि पूरी हेल्थ को बेहतर बनाने में हेल्प करती है। इसके इस्तेमाल से दाद, सोरायसिस और एक्जिमा जैसे कई त्वचा रोगों को ठीक करना आसान हो जाता है। 

आयुर्वेद के अनुसार खुजली के मरीज़ को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए !

  • खुजली के मरीज़ को खाने से लेकर पहनने तक का खास ध्यान रखना चाहिए, जैसे खाने की अगर बात करें तो उन्हें, पुराने चावल, मूंग दाल, जौ, ककड़ी, कड़वी पत्तेदार सब्जियां आदि को अपने आहार में शामिल करना चाहिए।
  • हल्का खाना खाएं।
  • सेंधा नमक का सेवन करें।
  • हल्के गुनगुने पानी से नहायें।
  • कैफीन से दूर रहें।
  • आहार और जीवन शैली को मौसम के हिसाब से मैनेज करें।
  • सूती कपड़े पहनें।

सुझाव :

अगर आप खुजली की समस्या से परेशान है, तो इससे निजात पाने के लिए आपको संजीवनी आयुर्वेदशाला क्लिनिक का चयन करना चाहिए। 

निष्कर्ष :

खुजली के कारणों के बारे में विस्तार से जानने के बाद आप किसी बेहतरीन डॉक्टर का चयन करें, पर ध्यान रखें किसी भी तरह के उपाय को बिना डॉक्टर के सलाह पर न इस्तेमाल करें।